Menu
inner page banner

विभाग के बारे में

रसायन और पेट्रोकेमिकल्स विभाग (डीसीपीसी) का लक्ष्य है:

  • i. देश में रसायन और पेट्रोरसायन क्षेत्रों की वृद्धि और विकास को प्राप्त करने के लिए नीति और कार्यक्रमों को तैयार और कार्यान्वित करना; तथा
  • ii. उद्योग के उपर्युक्त क्षेत्रों के समग्र विकास के लिए सार्वजनिक-निजी साझेदारी की भावना को बढ़ावा देना।

निम्नलिखित व्यापक विषय मामलों पर कार्रवाई के लिए विभाग को शासनादेश है:

  • कीटनाशक अधिनियम, 1968 (1968 का 46) के प्रबंधन को छोड़कर कीटनाशक;
  • डाईस्टिफ और डाई-इंटरमीडिएट्स;
  • सभी कार्बनिक और अकार्बनिक रसायन, विशेष रूप से किसी अन्य मंत्रालय या विभाग को आवंटित नहीं हैं;
  • विभाग द्वारा डील किए गए सभी उद्योगों को योजना, विकास और सहायता;
  • भोपाल गैस रिसाव त्रासदी - उससे संबंधित विशेष कानून;
  • पेट्रोरसायन;
  • गैर-सेल्युलोजिक सिंथेटिक फाइबर (नायलॉन पॉलीएस्टर्स, एक्रिलिक इत्यादि) के उत्पादन से संबंधित उद्योग;
  • सिंथेटिक रबर; तथा
  • सिंथेटिक रबर; तथा

विभाग में पांच प्रमुख प्रभाग हैं अर्थात रसायन, पेट्रोरसायन, प्रशासन, सांख्यिकी एवं निगरानी (एस एंड एम) और आर्थिक प्रभाग। आंतरिक वित्त प्रभाग रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तीन विभागों के लिए साझा है। रसायन क्षेत्र में तीन केन्द्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (सीपीएसयू) हैं जिनके नाम हैं; हिंदुस्तान ऑर्गेनिक केमिकल्स लिमिटेड (एचओसीएल), एचआईएल (इंडिया) लिमिटेड और हिंदुस्तान फ्लूरोकार्बन लिमिटेड (एचएफएल), जो एचओसीएल की सहायक कंपनी है और पेट्रोरसायन क्षेत्र में एक सीपीएसयू अर्थात ब्रह्मपुत्र क्रैकर एंड पॉलिमर लिमिटेड (बीसीपीएल) है। सेंट्रल इंस्टीेट्यूट ऑफ प्लाअस्टि्क्सै इंजीनियरिंग एंड टेक्नोपलॉजी (सिपेट) और इंस्टिूट्यूट फॉर्म्यू्लेशन टेक्नोूलॉजी (आइपीएफटी) विभाग के अधीन स्वाटयत्तह संस्था(न हैं।

श्री डी.वी. सदानंद गौड़ा रसायन और उर्वरक मंत्री हैं। श्री राव इंद्रजीत सिंह रसायन और पेट्रोकेरसायन राज्य मंत्री हैं। श्री पी. राघवेंद्र राव ने 19.03.2018 को विभाग में सचिव के रूप में कार्यभार संभाला।